Khilji Vansh in Hindi -  Khilji Vansh Ka Itihas


खिलजी वंश : जलालुद्दीन खिलजी (1290 से 1320 ई.)

दिल्ली की मुस्लिम सल्तनत का दूसरा शासक परिवार था खिलजी वंश (Khilji Vansh) | खिलजी वंश का संस्थापक जलालुद्दीन था गुलाम वंश के शासन को समाप्त कर 13 जून 1290 जलालुद्दीन फिरोज खिलजी ने खिलजी वंश की स्थापना की |

खिलजियों ने बिना किसी वर्ग के समर्थन के शक्ति के बल पर न केवल शासन की स्थापना की बल्कि बङे साम्राज्य का निर्माण किया। इस कारण खिलजी वंश को खिलजी क्रांति भी कहा जाता है |

जलालुद्दीन खिलजी ने किलोखरी को अपनी राजधानी बनाया | जलालुद्दीन उम्र में काफी बड़े थे और यह लंबे समय तक अफगानिस्तान के कबीलें में रहे है | दिल्ली के शासकों में जलालुद्दीन खिलजी के पास सबसे बड़ी स्थलीय सेना थी | निष्ठाहीनता, निर्दयता के लिए इन लोगों को जाना जाता था इन्होंने व्यापार में बेईमानी करने वाले और कम तौलने वाले के शरीर से मांस काट कर निकलने के आदेश दिए |  खिलजी ने अपने शासनकाल में “मूल्य नियंत्रण प्रणाली” को लागू किया |

 

खिलजी वंश के प्रमुख शासक -  Khilji Vansh Ke Pramukh Shasak

  • जलालुद्दीन खिलजी ( 1290-1298 ई.),
  • अलाउद्दीन खिलजी ( 1296-1316 ई. ),
  • कुतुबुद्दीन मुबारक शाह खिलजी (1316-1320 ई. )

जमैयत खाना मस्जिद, अलाई दरवाजा, सीरी का किला और हज़ार खम्बा महल का निर्माण खिलजी वंश के शासन काल में ही हुआ था | अलाई दरवाज़े को इस्लामी वास्तुकला का रत्न कहा जाता है |

खिलजी वंश का अंत – Khilji Vansh Ka Patan

जलालुद्दीन खिलजी इस वंश के प्रथम शासक थे उनके भतीजे और दामाद अलाउद्दीन खिलजी ने 1296 ई. में इनकी हत्या कर दी और दूसरा शासक अलाउद्दीन खिलजी बना |

अलाउद्दीन खिलजी ने 1296 से 1316 ई. तक शासन किया | खिलजी वंश के अंतिम शासक कुतुबुद्दीन मुबारक शाह खिलजी ने 1316-1320 ई. तक शासन किया 1320 ई. में इनके प्रधानमंत्री  खुसरो ख़ां ने 1320 ई. में इनकी हत्या कर दी |

गाजी मलिक जो दीपालपुर का इक्तेदार था के नेतृत्व में खुसरोशाह को मरवा दिया तुगलक़ वंश के प्रथम शासक गयासुद्दीन तुगलक  ने खुसरो ख़ां से उसकी गद्दी छीन ली और इस तरह गयासुद्दीन तुगलक  ने तुगलक वंश की स्थापना की |

खिलजी वंश के महत्वपूर्ण बिंदु और तथ्य | Facts About Khilji Vansh in Hindi

 

  • जलालुद्दीन खिलजी याकूब को दीवान-ए-रियासत नियुक्त किया था |
  • जलालुद्दीन खिलजी द्वारा नियुक्त किया गया परवाना-नवीस नामक अधिकारी शासनकाल में वस्तुओं के परमिट जारी करता था |
  • अपने शासनकाल में “मूल्य नियंत्रण प्रणाली” को लागू किया |
  • बेईमानी करने वाले के शरीर से मांस काट देने के आदेश जारी किये |
  • जलालुद्दीन खिलजी की हत्या उनके भतीजे और दामाद ने 1296 ई. में की थी |
  • 22 अक्टूबर 1296 ई. को अलालुद्दीन खिलजी दिल्ली का सुल्तान बना |
  • घोड़ा दागने और सैनिकों का हुलिया लिखने की प्रथा की शुरुआत अलालुद्दीन खिलजी ने की |
  • अलालुद्दीन खिलजी के शासन में 1296 से 1306 ई. तक मंगोलों के छ: आक्रमण हुए |
  • मुबारक खा ने खलिफा की उपाधि धारण की |
  • खुशरों खां ने पैगम्बर के सेनापति की उपाधि धारण की |
  • अलालुद्दीन खिलजी के बचपन का नाम अली तथा गुरशास्प था |